UPI full form | UPI क्या है? | जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

UPI एक ऑनलाइन ट्रांजैक्शन प्लेटफॉर्म है। आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति के पास समय की बहुत कमी है। इसीलिए व्यक्ति अपने सारे काम ऑनलाइन के माध्यम से करना पसंद करता है। जैसे ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन बैंकिंग, ऑनलाइन मनी ट्रांसफर, और भी बहुत सारे काम ऑनलाइन माध्यम से करता है। यदि आप ऑनलाइन किसी भी वस्तु को खरीदते हैं। तो उसका पेमेंट करने के बहुत सारे तरीके होते हैं। जिसमें एक तरीका यूपीआई का होता है। जिसके द्वारा आप किसी भी बैंक से पेमेंट कर सकते हैं। आज के समय में धोखाधड़ी से बचने के लिए और कैशलेस पेमेंट करने के लिए यूपीआई  बहुत ज्यादा use हो रहा है।

यूपीआई फुल फॉर्म

 यूपीआई का पूरा नाम यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस है।

यूपीआई को कैसे इस्तेमाल करे।

यूपीआई का यूज करने के लिए आपको अपने मोबाइल में ऐप को इंस्टॉल करना होगा। इसके लिए गूगल प्ले स्टोर पर बहुत सारे ऐप उपलब्ध है। जोकि यूपीआई ट्रांजैक्शन सुविधा प्रदान कराते हैं। और सभी बैंकों की अपनी अपनी यूपीआई एप्लीकेशन गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। इसके साथ ही और भी प्लेटफार्म यूपीआई ट्रांजैक्शन  की सुविधा देते है। जैसे अमेजॉन पे, गूगल पे ,फोन पे,भीम ऐप  और जैसी एप्लीकेशन यूपीआई पेमेंट सपोर्ट करती हैं। आपका जिस भी बैंक में अकाउंट है। आपको उसके  यूपीआई एप्लीकेशन को अपने मोबाइल फोन में इंस्टॉल  करना होगा जिसके बाद आपको अपनी बैंक की जानकारी देनी होगी। और जिसके बाद आपको एक यूपीआई आईडी मिल जाएगी जिसके बाद आप यूपीआई के माध्यम से ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

यूपीआई काम कैसे करता है?

यूपीआई इंटरनेट बैंकिंग की तरह ही काम करता है। जैसे किसी भी बैंक की नेट बैंकिंग की सुविधा 24×7 घंटे इस्तेमाल कर सकते है। उसी तरह UPI के द्वारा आप 24×7 घंटे छुट्टी के दिन भी आप इसके द्वारा ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

यदि आप इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा किसी व्यक्ति को कैसे भेजते हैं। तो पहले आपको उस व्यक्ति की बैंक की डिटेल आपके पास होनी चाहिए। जैसे अकाउंट होल्डर का नाम, अकाउंट नंबर, आईएफएससी कोड, ब्रांच का नाम आदि। यह सभी जानकारी भरने में आपको काफी समय लगता है। लेकिन आप यूपीआई के द्वारा ट्रांजैक्शन करते हैं। तो आपको इन सभी चीजों की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपको दूसरे व्यक्ति की केवल यूपीआई आईडी डालकर बहुत ही कम समय में सुरक्षा के साथ आप ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

 यूपीआई सुविधा देने वाले बैंक के नाम

दोस्तों आज के समय में लगभग सभी बैंकों ने UPI service देना शुरू कर दिया है। जैसे स्टेेेेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा , एक्सेस बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, पंजाब नेशनल बैंक,एचडीएफसी बैंक, केनरा बैंक आदि और भी बहुत सारी बैंक यूपीआई सर्विस देती हैं।

यूपीआई अकाउंट कैसे बनाएं ?

दोस्तों यूपीआई आईडी या  यूपीआई अकाउंट दोनों एक ही बात है। यूपीआई अकाउंट को आप बड़ी आसानी से बना सकते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर से कोई भी  यूपीआई एप्लीकेशन जैसेगूगल पे, अमेजॉन पे, फोन पे या किसी भी बैंक की यूपीआई एप्लीकेशन को अपने मोबाईल में  इंस्टॉल होगा। जिसके बाद अपने मोबाइल नंबर को एप्लीकेशन में डालकर वेरीफाई कराना होगा। जिसके बाद आपको अपनी बैंक को जोड़ना होगा। जिसके बाद आपको यूपीआई आईडी प्रदान कर दी जाएगी।

इसे भी जाने 

यूपीआई आईडी से कितने रुपए का ट्रांजैक्शन कर सकते हैं?

 दोस्तों यूपीआई आईडी के द्वारा आप एक रुपए से लेकर 100000 तक का ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

यूपीआई पिन कितने नंबर का होता है?

दोस्तों सभी बैंकों के यूपीआई पिन अलग-अलग होते हैं। किसी बैंक का यूपीआई पिन4 नंबर का होता है। और किसी बैंक का 6 नंबर का होता है।

क्या यूपीआई आईडी अलग-अलग एप्लीकेशन के लिए अलग-अलग बनानी होती है?

दोस्तों यदि यूपीआई आईडी की बात करें तो एक ही आईडी से आप किसी भी बैंक का ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसके लिए आपको अलग-अलग एप्लीकेशन के लिए अलग-अलग आईडी बनाने की कोई जरूरत नहीं पड़ती। 

यूपीआई से बैंक बैलेंस चेक कर सकते हैं?

दोस्तों यदि यूपीआई  केद्वारा बैंक बैलेंस चेक करने की बात करें। तो जिस एप्लीकेशन के द्वारा आपने अपनी यूपीआई आईडी  कोबनाया है। उससे आप अपने बैंक का बैलेंस भी चेक कर सकते हैं। यह सुविधा आपको यूपीआई फ्री देता है।

निष्कर्ष: 

दोस्तों आपको मेरा आर्टिकल यूपीआई फुल फॉर्म जरूर पसंद आया होगा। दोस्तों यूपीआई से जुड़े आपके दिमाग में जितने भी प्रशन होंगे। मुझे उम्मीद है कि सभी के उत्तर आपको मिल गए होंगे। दोस्तों मेरी यह कोशिस रहती है कि आप लोगों को ज्यादा से ज्यादा जानकारी मैं अपने ब्लॉग के द्वारा दे सकूं। आप लोगों को मेरा यह आर्टिकल कैसा लगा? इस आर्टिकल से जुड़ा आपका और भी कोई प्रश्न है। तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। हमें आपके कीमिति शब्दों का इंतजार रहेगा।

धन्यवाद

Leave a Comment

error: Content is protected !!