इंटरनेट क्या है? what is internet in Hindi

आज दुनिया में जो नेटवर्क का महाजाल फैला हुआ है। जिसके द्वारा सभी नेटवर्क किसी न किसी तरह से एक दूसरे से जुड़े हैं। आपका मोबाइल लैपटॉप या कंप्यूटर जिसमें भी यह आर्टिकल पढ़ रहे होंगे, वह भी किसी न किसी इंटरनेट के नेटवर्क के साथ जुड़ा है।

आज डिजिटल दुनिया के सभी चीजों को चलाने के लिए इंटरनेट का उपयोग किया जाता है।

आपके दिमाग में भी कई सवाल आते होंगे, कि इंटरनेट क्या है? और इंटरनेट का मालिक कौन है? और इसके फायदे क्या होते हैं? नुकसान क्या होते हैं ?और इंटरनेट काम कैसे करता है?

लेकिन आज हम आज के युग में यदि इंटरनेट की बात करें तो व्यक्ति के मोबाइल में इंटरनेट बंद हो जाए तो वह बेचैन हो जाता है क्योंकि आज के समय खासकर युवा वर्ग ने इंटरनेट को अपनी जिंदगी का एक हिस्सा बना लिया है क्योंकि व्यक्ति भूखा रह सकता है लेकिन बिना इंटरनेट के नहीं मैं आपको इस आर्टिकल में बहुत सारी जानकारी इंटरनेट से जुड़ी देने वाला हूं इसके लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ना होगा मैं दावा करता हूं यदि आपने यह आर्टिकल पूरा पढ़ लिया तो इंटरनेट के बारे में जितने भी सवाल आपके दिमाग में हैं उनके उत्तर आपको मिल जाएंगे

इंटरनेट क्या है what is internet in Hindi

इंटरनेट पूरी दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क जाल है यह एक विश्व के कंप्यूटर का नेटवर्क होता है इसमें हजारों लाखों की संख्या में कंप्यूटर एक दूसरे से जुड़े होते हैं जो हमें कम्युनिकेशन करने की सुविधा देते हैं यह वास्तव में बहुत बड़ा नेटवर्क का जाल होता है जो आपस में एक दूसरे के साथ नेटवर्क को बनाए रखने के लिए standardized communication protocols का प्रयोग करते हैं

इंटरनेट के द्वारा हम किसी एक जगह से दुनिया के किसी भी कोने में अपने डाटा को भेज सकते हैं जिसमें इमेज टेक्स्ट फाइल वीडियो आदि हो सकता है डाटा का जो आदान-प्रदान किया जाता है इसके लिए router और server ही दुनिया के सभी कंप्यूटर को जोड़कर एक नेटवर्क बनाते हैं जिसके द्वारा यह संभव हो पाता है

इंटरनेट का फुल फॉर्म(internet full form)

इंटरनेट का फुल फॉर्म interconnected network होता है जो कि पूरी दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क का जाल है जिसे worldwideया web भी कहा जाता है

Internet की खोज किसने की(father of internet)

आप सभी के दिमाग में एक सवाल जरूर आता होगा कि आज जो हम इंटरनेट चलाते हैं उसे सबसे पहले खोज किसने की होगी आज हम आपको इंटरनेट की खोज के बारे में सारी जानकारी देने वाले हैं

इंटरनेट की खोज किसी एक व्यक्ति ने नहीं की इसकी खोज के लिए कई वैज्ञानिक और इंजीनियरों की मदद से इसकी खोज सन 1997 में कोल्ड वार के समय(ARPA) advanced research project agencyसंस्था का गठन किया गया जिसका काम एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के नेटवर्क को जोड़ना था

सन 1969 में(ARPA) ने ARPANET की स्थापना की जिसकी मदद से एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के नेटवर्क को जोड़ने में सफलता हासिल मिली

इंटरनेट कब शुरू हुआ

इंटरनेट की शुरुआत 1 जनवरी 1983 में हुई जब ARPANET ने TCP/IPको जोड़ लिया जिसके बाद बहुत सारे इंजीनियरों ने उसे बनाने का काम किया जिसका नाम नेटवर्क था और आज के समय में नेटवर्क को लोग इंटरनेट के नाम से जानते है

भारत में इंटरनेट कब शुरू हुआ

भारत में इंटरनेट को 14 अगस्त 1995 को लांच किया गया था जिसे भारत में सर्वप्रथम BSNL कंपनी द्वारा लाया गया था

इंटरनेट काम कैसे करता है?

आप जब भी इंटरनेट use करते होंगे तब आपके दिमाग में एक सवाल जरूर आता होगा कि आखिर इंटरनेट काम कैसे करता है क्या यह सेटेलाइट के द्वारा चलता है यदि आप ऐसा सोच रहे हैं तो आप गलत सोच रहे हैं हम आपको बता दें कि 90% इंटरनेट optical fibre cable के द्वारा चलता है जिसे हम सबमरीन केबल भी कहते हैं

हम जो इंटरनेट यूज करते हैं वह तीन कंपनियों के द्वारा हमारे पास पहुंचता है Tier 1, Tier 2, Tier 3

Tier 1 कंपनी की बात करें तो इस कंपनी ने पूरे विश्व में समुद्र के अंदर अपनी ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछा रखी हैं जिसके द्वारा सारे देश एक दूसरे से connected हैं 

Tier 2 कंपनी की बात करें तो इस कंपनी के अंदर टेलीकॉम की कंपनियां जैसे Airtel,Vodafone,Idea ने देश के सारे शहरों को जोड़ रखा है यह कंपनी Tier 1 के ऑप्टिकल फाइबर केबल से अपने टावरों को कनेक्ट रखती है

Tier 3 कंपनी की बात करें तो इस कंपनी का काम लोकल क्षेत्र को नेटवर्क से जोड़ना होता है

यह तीनों कंपनी एक दूसरे को अपना डाटा ट्रांसफर करती हैं जिसका यह परजीवी के हिसाब Tier 1 कंपनी Tier 2 से औरTier 2 कंपनी Tier 1 से रुपए charge करती है हम अपने टैरिफ प्लान के हिसाब से इनको पेमेंट करते हैं और यह हमें इंटरनेट उपलब्ध कराती हैं

इंटरनेट फ्री होता है 

यह सुनकर आपको विश्वास नहीं होता होगा कि इंटरनेट फ्री कैसे होता है क्योंकि हम से तो इंटरनेट के बदले रुपए लिए जाते हैं चलिए जानते हैं कैसे इंटरनेट फ्री होता है

Tier 1, Tier 2, Tier 3 कंपनी ही इंटरनेट को हमारे पास पहुंचाने का काम करती हैं 

Tier 1 कंपनी समुद्र के अंदर जो ऑप्टिकल फाइबर केबल 

बिछाती है जिसका खर्च काफी होता है समुद्र के अंदर जो केवल बिछाई जाती हैं उनकी लाइफ लगभग 25 साल होती है उसके बाद यह केवल खराब होने लगती हैं जिसके लिए यह कंपनियां इंटरनेट के बैकअप के लिए कई सारी केवल बिछाती हैं जिनमें अच्छा खासा रुपए खर्च होता है इसीलिए यह कंपनी केवल के मेंटेनेंस का चार्ज लेती हैं और इंटरनेट फ्री होता है

इंटरनेट का उपयोग

कुछ समय पहले इंटरनेट का उपयोग शहर की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत कम देखने को मिलता था लेकिन जैसे-जैसे नई तकनीकों का आविष्कार हो रहा है इससे ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोग इंटरनेट का उपयोग करने लगे हैं आज के समय में शायद ही ऐसा कोई क्षेत्र नही बचा है जहां इंटरनेट का उपयोग नहीं होता है आज के समय में इंटरनेट का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में किया जाता है जैसे 

डाटा को आदान प्रदान करने में ,शिक्षा के क्षेत्र में ,कृषि के क्षेत्र में, बैंकिंग के क्षेत्र में, ऑनलाइन शॉपिंग और बहुत सारे क्षेत्रों में इंटरनेट का उपयोग होने लगा है

इंटरनेट के फायदे

आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में इंटरनेट के माध्यम से जिंदगी को आसान बनाने के लिए काफी हद तक मदद मिलती है क्योंकि किसी भी काम को हम घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से कर सकते हैं इंटरनेट के माध्यम से हम दुनिया के किसी भी कोने की जानकारी घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं आज के कंपटीशन के दौर में बिजनेसमैन लोग अपना बिजनेस ऑनलाइन तरीके से करने लगे हैं क्योंकि वह इंटरनेट के माध्यम से कम समय में ज्यादा ग्राहकों तक पहुंचते हैं जिससे उन्हें अच्छा फायदा होता है और आज के समय electricity bill,mobile phone bill और gas bill को हम ऑनलाइन जमा करके अपने समय को काफी हद तक बचा सकते हैं जो कि इंटरनेट के कारण ही संभव है और भी इंटरनेट के बहुत  सारे फायदे हैं

इंटरनेट के नुकसान

जिस तरह से इंटरनेट के फायदे हैं उसी तरीके से इंटरनेट के कुछ नुकसान भी होते हैं जैसे सोशल मीडिया पर गलत टिप्पणी करना या सोशल मीडिया पर गलत जानकारी को शेयर करना और इंटरनेट पर बहुत सारी ऐसी वेबसाइट होती हैं जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं होती है और यदि इन वेबसाइटों पर हम अपना डाटा देते हैं तो इसका भी हमें काफी नुकसान होता है बिना किसी काम के इंटरनेट को चलाकर अपने कीमती समय को बर्बाद करना और यदि हम इंटरनेट का ज्यादा उपयोग करते हैं तो हमारे शरीर पर भी इसका काफी नुकसान देखने को मिल सकता है जैसे आंखों की रोशनी कम होना चिड़चिड़ापन होना मुख्य कारण है

Leave a Comment

error: Content is protected !!